बवासीर में खुजली क्यों होती है ? कारण और उपाय | Bawasir Me Khujli

वर्तमान समय में 50 वर्ष से ज्यादा उम्र वाले ज्यादातर पुरुषों और महिलाओं में बवासीर की समस्या देखने को मिल रही है।

बवासीर के दौरान किसी भी व्यक्ति के गुदा में खुजली होना संभव हो सकता है। अगर आप बवासीर से पीड़ित हैं और यह जानना चाहते हैं कि बवासीर में खुजली क्यों होती है तो आप इस वक्त बिल्कुल सही जगह पर है।

आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बवासीर में खुजली क्यों होती है के साथ-साथ बवासीर क्या होता है, बवासीर होने के क्या लक्षण है और बवासीर में खुजली कम कैसे करें के बारे में बताने वाले हैं।

यह सारी जानकारी अच्छे से और विस्तार पूर्वक प्राप्त करने के लिए आप हमारे इस आर्टिकल में हमारे साथ अंत तक बने रहे। Bawasir Me Khujli Kyu Hoti Hai

बवासीर क्या है? Bawasir Kya Hai

बवासीर पुरुषों और महिलाओं के गुदा में होने वाला एक रोग है जिसे पाइल्स भी कहते है। यह ज्यादातर 50 वर्ष से अधिक उम्र होने पर होती है। बवासीर के दौरान किसी भी मनुष्य को मल त्याग करने में जलन या दर्द महसूस होने की संभावना रहती है।

बवासीर की समस्या पुरुषों और महिलाओं दोनों में पाई जाती है लेकिन महिलाओं में पुरुषों के मुकाबले यह समस्या कम देखने को मिलती है।

बवासीर क्यों होता है?

आइए हम नीचे आपको बवासीर होने के कुछ महत्वपूर्ण कारण बताते हैं। ताकि आप इन बातों को ध्यान में रखकर अपना जीवन व्यतीत करें और बवासीर जैसे रोगों से बचकर रहें।

  • मनुष्य के पेट में ज्यादा कब्ज हो जाने की वजह से मल त्याग आसानी से नहीं हो पाता है और यह बवासीर का मुख्य कारण होता है।
  • कम पानी पीने और अधिक मसाला खाने से बवासीर होता है।
  • जब कोई महिला प्रेग्नेंट होती है तो उस दौरान भी उन्हें पाइल्स की समस्या हो सकती है। लेकिन जब महिलाओं की
  • डिलीवरी हो जाती है तो अपने आप पाइल्स की समस्या खत्म हो जाती है।
  • बवासीर छुआछूत की बीमारी नही है।

इन्हें भी देखें-

बवासीर में खुजली क्यों होती है – Bawasir Me Khujli

जब किसी व्यक्ति में बवासीर की शुरुआत होती है तो सभी मांसपेशियां एक जगह इकट्ठा हो जाती है और वहां पर खुजली होने लगता है।

जब किसी व्यक्ति के गुदा में लगातार खुजली होने लगे और यह ठीक ना हो तो तुरंत इसे डॉक्टर से दिखाना होता है क्योंकि गुदा में खुजली ही बवासीर की शुरुआत का संकेत है।

बवासीर के दौरान गुदा की नसें काफी ज्यादा सुज जाती हैं और वहां पर मांसपेशियां इकट्ठा हो जाती हैं। जिसके वजह से गुदा में खुजली की समस्या उत्पन्न होती है और अगर सही समय पर इसका इलाज ना किया गया तो यह खुजली बढ़ने लगती है और खुजली के साथ-साथ बवासीर भी लगातार बढ़ने लगता है।

बवासीर में खुजली दूर कैसे करें?

अगर आप बवासीर से पीड़ित हैं और लगातार खुजली करके परेशान हैं तो आइए हम आपको नीचे बवासीर में खुजली कम करने के कुछ महत्वपूर्ण तरीके बताते हैं। जिसका इस्तेमाल कर आप बवासीर में खुजली कम कर सकते हैं और खुजली से राहत पा सकते हैं।

  • जो व्यक्ति बवासीर से पीड़ित है और उन्हें लगातार खुजली हो रही है वह खुजली से राहत पाने के लिए रोज गर्म पानी से नहाए। क्योंकि गर्म पानी से नहाने पर बवासीर से राहत मिलती है और साथ ही खुजली भी कम होती है।
  • बवासीर से पीड़ित व्यक्ति अपने शरीर के प्रभावित हिस्से पर नारियल का तेल इस्तेमाल कर सकते हैं और खुजली के साथ-साथ बवासीर से भी जल्द राहत पा सकते हैं।
  • जो लोग बवासीर से पीड़ित हैं वह अपने प्रभावित हिस्से पर आइस पैक का इस्तेमाल कर सकते हैं और इससे खुजली से राहत पा सकते हैं।

बवासीर होने के लक्षण?

अब आइए हम नीचे बवासीर के कुछ मुख्य लक्षणों के बारे में जानते हैं। ताकि जैसे ही आपके अंदर इस प्रकार के लक्षण देखने को मिले आप तुरंत चेकअप कराएं और बवासीर का इलाज करा सके।

  • बवासीर का मुख्य लक्षण मल त्याग करने में जलन और दर्द होना है।
  • बवासीर होने के दौरान गुदा में काफी ज्यादा खुजली होती है और आपके गुदा और मलाशय की नस काफी सुज जाता है।
  • मल त्याग के दौरान रक्तस्राव होना भी बवासीर का मुख्य लक्षण है।
  • बवासीर से पीड़ित लोगों को हमेशा अधूरा मल त्याग की भावना रहती है। इसके साथ साथ उन्हें मल त्याग करने के दौरान काफी ज्यादा दर्द का अनुभव भी हो सकता है।
  • बवासीर से पीड़ित मनुष्य को बैठने में काफी ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है और उनकी गुदा में हमेशा दर्द रहता है।

बवासीर का इलाज कैसे करें?

अगर आप काफी ज्यादा दिनों से बवासीर से पीड़ित है और लगातार दवा करने के बाद भी आपका बवासीर ठीक नहीं हो रहा है तो आइए हम आपको कुछ घरेलू नुक्से बताते हैं जिसका इस्तेमाल कर आप बवासीर से राहत पा सकते हैं।

  • बवासीर से पीड़ित व्यक्ति बवासीर से प्रभावित शरीर के हिस्से पर एलोवेरा का इस्तेमाल कर सकते हैं और एलोवेरा से बवासीर को ठीक करने में कामयाबी पा सकते हैं।
  • बवासीर के दौरान गुदा की नसें सूज जाती है जिन्हें ठीक करने के लिए आप जैतून के तेल का प्रयोग कर सकते हैं। जैतून का तेल गुदा के नसों की सूजन कम करने में कारगर साबित होता है।
  • बवासीर के दौरान लोग बादाम के तेल में रुई को डूबा कर प्रभावित हिस्से पर लगा सकते हैं। जिससे जलन और रक्तस्राव से आराम मिलता है।
  • आप जीरे का पानी पी सकते हैं या फिर इसका लेप बनाकर प्रभावित हिस्से पर लगा सकते हैं और बवासीर से राहत पा सकते हैं।

इन्हें भी देखें-

बवासीर में खुजली के इलाज के बारें में अन्तिम सलाह

आज हमने आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से बवासीर में खुजली क्यों होती है (Bawasir Me Khujli Kyu Hoti Hai) के बारे में जानकारी दी है।

इसके अलावा हमने आपको बवासीर के मुख्य लक्षण, बवासीर होने के मुख्य कारण और बवासीर के इलाज के बारे में भी बताया है।

उम्मीद है आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और इसे पढ़ने के बाद बवासीर से संबंधित सारी जानकारी मिल गई होगी।

अगर यह आर्टिकल आपको अच्छा लगा तो आप इसे अपने मित्रों के साथ साथ अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें। ताकि आप से संबंधित सभी लोग बवासीर जैसे रोग से अपने आप को बचा सके।

Youtube Channel Image
Earn Money घर बैठे पैसे कमाएं
    Click Here