बवासीर में दूध पीना चाहिए या नहीं | Bawasir Me Dudh Pina Chahiye Ya Nahi

Bawasir Me Dudh Pina Chahiye Ya Nahi –  बवासीर को हम पाइल्स के नाम से भी जानते है। बवासीर एक खतरनाक बीमारियों में से जानी जाती है। इस बीमारी के होने पर आपके शरीर से मल के माध्यम से ब्लड का रिसाव होता हैं, पेट में जोरों का दर्द, पुरी तरह से सुस्ती लगना पाइल्स का लक्षण हैं। बवासीर से शरीर के पोषक तत्वों की पूर्ति हेतु दुध पीना चाहिए या नहीं।

आप भी यदि बवासीर का शिकार हैं या बवासीर में दुध पिए या नहीं इसकी जानकारी लेना चाहते हैं। तो आज इस लेख के माध्यम से सारी महत्वपूर्ण बातों की जानकारी आपसे साझा की जाएगी।

पाइल्स से होने वाली समस्या और उससे कैसे निजात पाया जाए। इन सारी बातों को सरल और स्पष्ट तरीकों से इस लेख के माध्यम से दर्शाया गया है।

बवासीर में दुध पीना चाहिए या नहीं / Milk in Piles

डॉक्टर और एक्सपर्ट के अनुसार किसी भी बवासीर के मरीज को दुध का सेवन वर्जित है। परंतु हां यह कहा जा सकता है कि ऑपरेशन के बाद कमजोरी को कम करने के लिए आप दुध  का सेवन कर सकते हैं। या फिर दूध से बने उत्पादों का भी सेवन किया जा सकता है।

यदि आप बवासीर के मरीज है तो विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए कि ठंडे दूध का सेवन बिल्कुल भी ना करें।

कभी-कभार हल्के गर्म और गुनगुने दूध का सेवन किया जा सकता है या फिर दही और  छेना जैसे उत्पाद को खाया जा सकता है। दूध और दूध से बने उत्पाद शरीर में कमजोरी को कम करते हैं । इसलिए दुध पूरी तरह से नहीं छोड़ना है। कभी कभार हल्की गर्म या गुनगुने दुध को जरूर पिए। 

क्या बवासीर में डायरी उत्पादों  का सेवन कर सकते है?

आपको बता दें यदि आप बवासीर के मरीज है तो भी आपको दुध मना किया गया है ना कि दुध से बनाई गई प्रोडक्ट्स को खाने से रोका गया है। आप चाहे तो दुध में घी मिलाकर उसका सेवन भी कर सकते हैं बल्कि फायदेमंद सिद्ध होगा। 

यदि आप चाहे तो ओट्स, ब्राउन राइस, मल्टी ग्रेन ब्रेड आदि का सेवन कर सकते हैं। बवासीर में डेयरी उत्पादों का सेवन अवश्य किया जा सकता है।

इसके लिए किसी भी प्रकार के रोकथाम के बारे में नहीं कहा गया है। साथ ही हम आपको यह भी सुझाव देंगे कि आप योगर्ट, दही, छेना, पनीर, मलाई, केफिर जैसे डेयरी उत्पादों का सेवन कर सकते हैं।

क्या बवासीर में गर्म दूध का सेवन करना फायदेमंद है?

आप यदि बवासीर से पीड़ित है और दुध का सेवन करना चाहते हैं तो एक्सपर्ट के अनुसार आप हल्के गर्म दुध का सेवन कर सकते हैं। आप एक ग्लास में गर्म दुध के अलावा शहद मिलाकर पिए। जिससे आपकी लीवर चिकनी रहेंगी और आप आसानी से बाउल कर पाएंगे।

बाबासीर जैसी समस्या उत्पन्न होने के बाद शरीर में काफी थकावट अनुभव होती है। बवासीर होने पर मल के द्वारा ब्लड का रिसाव होता हैं जिससे काफी कमजोरी होती हैं। वैसे में हल्के गर्म दुध के सेवन से आवश्यक पोषक तत्वों की कमी पूरी होती हैं।

बवासीर क्यो होता हैं ?

बवासीर होने के कुछ प्रमुख कारण हैं जो निम्न प्रकार से हैं।

बवासीर को कम करने के घरेलू उपचार 

बवासीर को कम करने के अनेकों उपाय हैं जिनमें से कुछ अच्छे तरीको को नीचे में निम्नलिखित स्टेप्स के माध्यम से दर्शाया गया हैं।

  • बवासीर के घरेलू उपचार के लिए जीरे का प्रयोग।
  • जैतून का तेल भी बवासीर के उपचार हेतु फायदेमंद होता है।
  • अजवाइन और मट्ठा का सेवन बवासीर के लिए लाभकारी होता हैं।
  • हल्दी और एलोवेरा के मिश्रण से बवासीर को कम कर सकते हैं।
  • नारियल तेल और हल्दी को मिलाकर लगाने से बवासीर से राहत मिलती है।
  • नहाते वक्त अपने पानी में हल्दी डालकर नहाए बवासीर से राहत मिलेगी।
  • पपीता के सेवन करने से इस रोग से निजात पा सकते हैं।
  • ईसबगोल बवासीर के लिए बेहतर है।
  • आरंडी का तेल बवासीर में लाभकारी होता है।
  • बेल फल के शरबत को पीने से बवासीर से राहत मिलेगी।

बवासीर में दूध पीने के बारें में HealthNeed की सलाह

उपरोक्त लेख के माध्यम से बवासीर से संबंधित सारी महत्वपूर्ण जानकारी को सरल एवं सटीक तरीकों से दर्शाया गया है। Bawasir Me Dudh Pina Chahiye Ya Nahi, बवासीर के घरेलू उपचार जैसे तमाम पॉइंट को इस लेख के माध्यम से समझाने का भरपूर प्रयास किया गया है।

हमें पूर्ण विश्वास है कि बवासीर से संबंधित होने वाले परेशानियों से निजात पाने के लिए हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख काफी कारगर साबित होगा। इस लेख के अनुसरण करने से आपको पाइल्स जैसी खतरनाक बीमारियो से छुटकारा मिलेगा और आपका जीवन बेहतर होगा

Leave a Comment